ENGLISH MEDIUM

SYLLABUS FOR THE REVISED PRELIMINARY CIVIL SERVICES

EXAMINATION OF JHARKHAND

The Preliminary Examination Shall consist of two compulsory Paper, namely, General Studies-I of 200 marks and General Studies-II of 200 marks. The question papers shall be multiple choices, objective type. The question papers will be set both in Hindi and English.

General Studies-I

Total Marks:200                                                                                           

Time: 2 hours

The paper will consist of 100 objective type questions, each of 2 marks, drawn from the subjects listed below. Candidates will have to answer all the questions.

(A) History of India: 

15 Questions

  1. Ancient India (5 questions )
  2. Medieval India ( 5 questions)
  3. Modern India ( 5 questions)

(B) Geography of India:        

10 Questions

  1. General Geography ( 3 questions )
  2. Physical Geography (3 questions )
  3. Economical Geography (2questions)
  4. Social & Demographic Geography ( 2 questions)

(C) Indian Polity and Governance:10 Questions

  1. Constitution of India ( 4 questions )
  2. Public Administration and Good Governance (4 questions )
  3. Decentralization: Panchayats & Municipalities ( 2 questions)

(D) Economic and Sustainable Development                      10 Questions

  1. Basic features of Indian Economy (4 questions )
  2. Sustainable Development and Economic issues ( 4 questions )
  3. Economic Reforms and Globalization ( 2 question )

(E) Science & Technology:     15 Questions

  1. General Science ( 6 questions)
  2. Agriculture & Technology Development ( 6 questions )
  3. Information & Communication Technology (3 questions )

(F) Jharkhand Specific Questions ( General Awareness of its History Society, Culture & Heritage) :      10 Questions

(G) National & International Current Events:         15 Questions

(H) General Questions of Miscellaneous nature, not requiring subject specialization, such as, : 15 Questions

 

  1. Human Rights
  2. Environmental Protection, Bio-diversity & Climate Change
  3. Urbanization
  4. Sports
  5. Disaster Management
  6. Poverty and Un-employment
  7. Awards
  8. United Nations and other International Agencies
(100 Question /200 Marks)                                                                   Time: 2 Hours

 

  1. A) History of Jharkhand 8 Questions                             8×2=16
  1. Munda Administration -(1 question)
  2. Naagvanshi Administration -(1 question)
  3. Padha Panchayat administration -(1 question)
  4. Manjhi Pargana Administration             -(1 question)
  5. Munda Manki Administration             -(1 question)
  6. Dhoklo Administration                                               -(1 question)
  7. Community Panchayat Administration                       -(2 question)
  8. B) Jharkhand Movement: 7 Questions                             7×2=14
  9. Sadan of Jharkhand -(1question)
  10. Tribes of Jharkhand -(1question)
  11. Freedom Fighters of Jharkhand                                  -(1question)
  12. Significance of Jharkhand -(2question)
  13. Jharkhand Movement and state Organizations -(2question)
  14. C) Specific Identities of Jharkhand 5 Questions 5×2=10
  15. Social Scenario -(1question)
  16. Cultural Scenario -(1question)
  17. Political Scenario -(1question)
  18. Economic Scenario -(1question)
  19. Religious Specific Identities -(1question)
  20. D) Folklore/Folk Literature, Dance Musical instruments Tourist Places, Tribal Culture of Jharkhand 5 Questions                             5×2=10
  21. Folklore/Folk Literature -(1question)
  22. Traditional Arts and Folk Dances -(1question)
  23. Folk Music and Instruments -(1question)
  24. Tourist Places- Natural Archaeological , Religious and modern Places -(1question)
  25. Scheduled Castes and Tribes and their specialties -(1question)
  26. E) Literature and Authors of Jharkhand (5 Questions) 5×2=10
  27. F) Important Educational Institutions of Jharkhand (3 Questions ) 3×2=6
  28. G) Sports of Jharkhand (5 Questions )                         5×2=10
  29. H) Jharkhand Land Related Laws/Acts (12 questions) 12×2=24
  30. Chhota Nagpur Tenancy (C.N.T) (5 Questions)
  31. Santhal Paragna Tenancy (S.P.T) (5 Questions)
  32. Other State wise Acts (2Questions)
  33. I) History of Economic Development in 1947, Geography of Jharkhand Forests, Rivers, Hills and Mountains, Mines and Minerals (10 Questions)                        10×2=20
  34. J) Industrial Policies of Jharkhand, Displacement and Rehabilitation and other Policie (6 Questions)               6×2=12
  1. K) Important Industries Their Name, Place and Industrial Development (5 Questions) 5×2=10
  2. L) Important Schemes and Sub schemes (5 Questions) 5×2=10
  3. M) Forest Management and Wild Life Animal Protection (5 Questions) 5×2=10
  4. N) Climatic Facts, Climate change, Mitigation and Adaptation of Jharkhand (7 Questions) 7×2=14
  5. O) Disaster Management in Jharkhand (5 Questions) 5×2=10
  6. P) Trivia and Current Affairs of Jharkhand (7Questions) 7×2=14

SYLLABUS FOR THE MAIN EXAMINATIONOF THE JHARKHAND CIVIL SERVICES

The Main Examination shall consist of six compulsory papers, common to all candidates two of these papers namely Paper-I Hindi and English -100marks and Paper-II Regional Language & Literature -150marks, shall be language based and the remaining four papers each of 200 marks,  Shall be subject based. The language based Papers shall be (i) A composite paper of General Hindi & General English and (ii) A Language & Literature Paper of certain selected languages of which every candidate will have to opt for one. The subject based papers shall be (i) Social Science ( History & Geography), (ii) Indian Constitution, Polity, Public Administration & Good Governance, (iii) Indian Economy, Globalization & Sustainable Development and (iv) General Science, Environment & Technology Development

The detailed syllabi of all the above six papers shall be as follows.

Paper-1

Total Marks 100   Time 3 Hour

The General Hindi and General English paper shall be a composite paper consisting of two segments, namely, (i) Hindi, and (ii) English . Both the segments shall be of equal weightage i.e. each of 50 marks. The purpose of the paper is to test the working knowledge of the candidates in the above two languages. As such, the questions to be asked in both the segments of this paper shall be of matric standard only and shall be confined to the following areas :

(A). General Hindi         50 Marks

  1. निबंध (400 शब्दों का) (15 Marks)
  2. व्याकरण (15 Marks)
  3. वाक्य विन्यास (10 Marks)
  4. संक्षेपण (10 Marks)

(B) General English         (50 Marks)

  1. Essay (400) ( 15 marks )
  2. Grammar ( 15 marks )
  3. Comprehension ( 10 marks )
  4. Precis             (10 marks)

It will be only qualifying paper in which out of 100 (combined both Hindi & English) every candidate will have to secure only 30 marks. Thus inclusion of 50 marks General English component will not adversely impact the chances of students from Hindi/ Regional Language background

 Paper-II

Total Marks : 150        Time : 3 hours

The candidates have the choice to opt for one of the following languages. And literature :

  1. Bangali Language and  Literature
  2. English Language  and  Literature
  3. Hindi Language and  Literature
  4. Ho Language and  Literature
  5. Khadia Language and  Literature
  6. Khortha Language  and  Literature
  7. Kurmali Language and  Literature
  8. Kurukh Language and  Literature
  9. Mundari Language and  Literature
  10. Nagpuri Language  and  Literature
  11. Oriyya Language and  Literature
  12. Panchpargania  Language  and  Literature
  13. Sanskrit Language  and  Literature
  14. Santhali Language  and  Literature
  15. Urdu Language  and  Literature

This paper will be set for a maximum of 100 marks and marks obtained in this paper shall be counted for preparation of the Gradation-list of the main Examination.

The detailed syllabi of the above 15 languages and literatures shall be as follows:

(ii) English Language and Literature

Full Marks : 150             Time : 3 Hours

Part-I

  1. History of English Language :
  2. Indo-European Family of Language
  3. Teutonic Verbal System, Teutonic Accent
  • The First Sound Shifting or Grimm’s Law
  1. Old English ( Dialects of Old Modern English; Characteristics of old English, Old English Vocabulary)
  2. Middle English(Dialects of Modern English; Characteristics of Middle English; Rise of Standard English)
  3. The Definition of Poetry : Its characteristics, purpose, forms of poetry—lyric, sonnet, ode, balled, free verse, blank verse, rhymed verse, poetic terms – alliteration, resonance, rhyme scheme, meter – its types.
  4. Comprehension (A passage containing approximately 1000 words to be set):
  5. Grammar
  6. Noun, Verb, Adjective, Adverb, Article, Preposition, Subject- Verb, Agreement, Narration, Voice, Transformation, Clause.
  7. Single- word substitution
  • Correction of errors
  1. Pairs of words
  2. Idioms and Phrases

 Part-II

English Literatur:

  1. History of English Literature (British, American, Colonial and Post-Colonial Writing) From the 14th century up to the 21st century:

Poetry, Drama, Prose, Novel, Criticism, Biography, Autobiography, Short-Stories ( General Introduction  of eminent poets, dramatists, novelists, prose-writers, short-story writers, autobiographers, biographers, popular writers)

  1. Fiction and Drama ( Critical Study and Explanation):
  2. Kanthapura : Raja Rao
  3. A passage to India : E.M Forster
  4. Macbeth : William Shakespeare
  5. Arms and the Man : G.B. Shaw
  6. Poetry (Critical Study and Explanation):
  7. The Quality of Mercy : William Shakespeare
  8. The Little Black Boy: William Blake
  9. The Solitary Reaper : William Wordsworth
  10. Mutability : P.B. Shelley
  11. I think Continually of Those who were Truly Great
  12. Heaven of freedom : Rabindranath Tagore
  13. A Soul’s Prayer : Sarojni Naidu
  14. Prose ( Critical Study and Explanation)
  15. On Habits : A.G. Gardiner
  16. Playing the English Gentlemen : Mahatama Gandhi
  17. India Again : E.M. Forster
  18. Of Studies : Francis Bacon
  19. Know All: Somerset Maugham
  20. The Homecoming : Rabindranath Tagore
  21. The Cherry Tree : Ruskin Bond
  22. Essay : On any socio-economic or current topic 1×15=15 marks

 Paper-III

Total Marks : 200           Time : 3 hour

The question –paper of Social Sciences shall have two distinct sections, one of History and the other one of Geography each of 100 marks. The candidates will be required to answer one Compulsory  and two optional questions from each i.e. Six Questions  in all. The compulsory question of each section, covering the entire syllabus of the concerned section, shall have ten objective type questions, each of two marks ( 10×2=20 marks). In addition, there shall be four optional questions in each section of History and Geography. Since there are four distinct sub-sections, both in History and Geography. One question will be drawn from each sub-section as to make a total of four optional questions in each of the two distinct sections of History and Geography; of which candidates will be required to answer only two questions; each of 40 marks. The optional question shall be answered in the traditional, descriptive style, requiring long-answers.

 Section (A) – History : 100 marks

(a) Ancient Period:

  1. The Indus Valley Civilization : Origin, antiquity, extent, authorship and main feature.
  2. Origin of the Aryans.
  3. Antiquity and stratification of the Vedic literature, Society, economy and religion during Early (Rig-Vedic) Period.
  4. The Lichchavis and their republican constitution.
  5. The Rise of the Magadhan empire.
  6. The Mauryas : Extent of empire, Kalinga war and its impact; Asoka’s Dhamma, Foreign Policy, Development of Art and architecture during the Mauryan Period.
  7. The Kushanas : Kanishka : Extent of empire, His religious Policy; Development of Art, Architecture and letters during the Kushana period.
  8. The Guptas : Extent of empire; development of Language and literature, art & architecture during the Gupta period
  9. Harsha-Vardhan : The last great hindu ruler of Nothern India, cultural achievements during his period.
  10. The Cholas : maritime activities in South-east Asian countries, Chola administration, art & architecture.
  11. Cultural Achievements of the Pallavas.

(b) Medieval Period :

  1. The Arab invasion of India.
  2. The Ghaznavid Invasion of India.
  3. The Delhi Sultanate : Market and Military Reforms of Allauddin Khilji, Utopain policies of Muhammad-bin-Tughlaq.
  4. The Mongol invasion of India.
  5. Religious Movements : (a) Sufism, (b) Bhakti Movement,
  6. Dawn of a New-Islamic Culture : Indo-Islamic architecture, Development of Urdu and Hindi Languages.
  7. The Mughals : First Battle of Panipat, Achievements of Sher Shah suri, Consolidation of Mughal empire; Establishment of Jagirdari and Mansabdari systems under Akbar, Akbar’s  Religious and Rajput policies, Aurangzeb’s Religious and Rajput policies, Mughal Architecture and Painting, Economic Condition during Mughal Period.
  8. The Rise of the Marathas : Achivements of Shivaji, Northward expansion of the Marathas and their downfall.

 (c) Modern Period :

 20.Beginning of European settlements : formation and growth of East India Company, Consolidation of British power in India: Battles of Plassey and Buxar, Control over Mysore, Subsidiary Alliance, Doctrine of Lapse, Doctrine of Escheat.

  1. Resistance to Colonial Rule; Peasant; Tribal and Cultural Renaissance; Revolt of 1857.
  2. Social Reforms Movements in Hindu Community : Brahma Samaj, Arya Samaj, Ram Krishna Mission, Prarthana Smaj and Theosophical Society of India.
  3. Social Reforms Movements in Muslim Community : Wahabi Movement & Aligarh Movement.
  4. Struggle for raising women’s Status : Abolition of Sati System, Widow Marriage Act, Consent Bill, Stress on Female Education.
  5. Land Revenue Administration under the British rule : Permanent Settlement, Ryotwari & Mahalwari Systems.
  6. Rise of Nationalism in India in the 19th century : Formation of Indian National Congress : Moderates and Extremists, Swadeshi Movement, Home Rule League Movement, Khilafat Movement.
  7. Mahatma Gandhi and Mass Politics : Non-Co-operation Movement, Civil Disobedience Movement, Quit India Movement.
  8. The partition of India and its consequences.
  9. India after independence: Integration of Princely states in Indian Union, Linguistic Reorganization of States; Non-alligned policy under Nehru and Indira Gandhi, Libration of Bangladesh.

(d) History of Jharkhand

  1. Adi-dharma i.e. Sarana cult of Jharkhand tribals;
  2. Concept of Sadan and emergence of Nagpuri Language;
  3. Tribal Revolts in Jharkhand and Nationalist struggle;
  4. Birsa Movement
  5. Tana Bhagat Movement, and
  6. Freedom Movement in Jharkhand.

Section (B)- Geography : 100 Marks

(a) Physical Geography ( General Principles) :

  1. Origin and Evolution of earth, interior of earth, Wegner’s Continental Drift Theory, Plate tectonics, Volcanoes. Earthquakes and Tsunamis.
  2. Major Types of rocks and their characteristics, evolution and characteristics of landforms in the Fluvial, Glacial, Arid and Karst regions.
  3. Geomorphic processes: Weathering, mass wasting, erosion and deposition ,soil formation’ ,Landscape cycles, ideas of Davis and Penck.
  4. Composition, Structure and Stratification of the atmosphere .
  5. Insolation, heat budget of the earth .
  6. Horizontal and vertical distribution of temperature, inversion of temperature
  7. Air masses and fronts , Tropical and temperate cyclones .
  8. Evaporation and Condensation: dew , frost , fog , mist and cloud , rainfall types.
  9. Classification of climates, (Koppen and Thornthwaite) Greenhouse effect, global warming and climatic changes.
  10. Hydrological cycle , distribution of temperature and solicits in the oceans and seas, waves , tides and currents, ocean floor relief features .

(b) Physical and Human Geography of India:

 

  1. Structure, relief and physiographic divisions, Drainage systems: Himalayan and the Peninsular.
  2. Indian monsoon, mechanism, onset and retreat, climatic types (Koppen and Trewartha). Green Revolution and its impact on major crops of India Food scarcity.
  3. Natural Vegetation –Forest types and distribution, wild life, conservation, biosphere reserves.
  4. Major types of Soils. ( ICAR Classification ) and their distribution; Soils Degradation and conservation.
  5. Natural Hazards : Floods Droughts, Cyclones, Landslides.
  6. Population growth, distribution and density.
  7. Age : Sex, Ratio, rural-urban composition.
  8. Poplation, environment and development.
  9. Types of Settlements: rural and urban, Urban morphology, functional classification of urban settlements: Problems of human settlement in India.

(c) Natural Resources of India : Development and Utilization

  1. Land Resources: General land use, agricultural land use, geographical condition and distribution of major crops, like, rice, wheat, cotton, jute, sugarcane, rubber, tea and coffee.
  2. Water Resources: Availability and utilization for industrial and other purposes, irrigation, scarcity of water, methods of conservation-rain water harvesting and watershed management, ground water management,
  3. Minerals and Energy Resources: Distribution and Utility of (a) metallic minerals ( iron ore, copper, bauxite, magnese) (b) non-metallic and conventional minerals ( coal, petroleum and natural gas), (c) hydro electricity and non conventional sources of energy ( Solar, Wind, bio-gas), (d) energy sources, their distribution and conservation.
  4. Development of Industries: Types of industries, factors of industrial location, distribution and changing pattern of selected industries (iron and steel, cotton textile, sugar and petrochemicals), Weber’s theory of industrial location-its relevance in the modern world.
  5. Transport, Communication and international Trade: (a) Roads, Railway and water Ways. (b) Bases of International trade, changing pattern of India’s foreign trade. (c) Geography of Jharkhand and Utilization of its Resources :

(d) Geography of Jharkhand and Utilization of its Resources

  1. Geological history, landforms, drainage, climate, soil types and forests, agriculture and irrigation, Damodar & Suberna  rekha valley projects, mineral resources of Jharkhand, their extraction and utilization.
  2. Population : Growth, distribution, density, Tribal population and their distribution, Problems of Tribes and Tribe development plans, their customs rituals, festivals etc.
  3. Industrial and urban development, Major industries-Iron,steel and Cement, Cottage industries.
  4. Pattern of urban settlement and Pollution Problems.

 Paper-IV

Total Marks 200     Time 3hours           

The question –paper of the Indian Constitution, Polity and Public Administration shall consist of two distinct sections i.e. one on Indian Constitution and polity, and the other one on public Administration  & Good Governance, each of 100 marks.  The candidates will be required to Answer one compulsory and two optional Questions from each section. The compulsory question of each section, covering the entire syllabus of the concerned section, shall have ten  objective type of questions, each of two marks (10×2=20). In addition, there shall be four optional questions in each section, of which candidates will be required to answer only two questions, each of 40 marks. The optional questions shall be answered in the traditional, descriptive Form; requiring long answers.

Section (A)- Indian Constitution and Polity

  1. Preamble of the Indian Constitution (Secular, Democratic and socialist)- Philosophy behind it.
  2. Salient features of the Indian Constitution. Concept of Public Interest Litigation; Basic structure of the Indian Constitution.
  3. Fundamental Rights & Duties.
  4. Directive Principles of State Policy.
  5. Union Government:

(a) Union Executive : Powers and Functioning  of President, Vice President, Prime Minister and the Council of Ministers : Functioning  under a Coalition Government.

(b) Union Legislature : Lok Sabha and Rajya Sabha : Organization and Functions ; Law making process; Parliamentary Committees; Parliament’s Control over Executive; Privileges and immunities of Parliament and its Members.

(c) Union Judiciary: The Supreme Court : its role and powers, Principles of Natural Justice & Rule of Law, Judicial Review and Judicial Activism;

  1. State Government:

(a) State Executive : Powers and functions of Governor, Chief Minister and the Council Ministers.

(B) State Legislature : organization, Powers and functions, with special reference to Jharkhand.

(c) State judiciary : high Court : Organization, Powers & functions, Subordinate Judiciary.

(d) Panchayat & Municipalities : constitution, Powers Functions and responsibilities with special reference to 73rd and 74th Constitutional amendments.

 

  1. Centre-State Relationship : Administrative, Legislative and Financial.
  2. Provision relating to administration of scheduled Areas and scheduled Tribal Areas.
  3. Special provision relating to reservation of seats for S.C. and S.T. in Legislature, Services etc.
  4. Emergency Provisions of the Constitution.
  5. Comptroller & Auditor-General of India (CAG).
  6. Election Commission of India.
  7. Political Parties and Pressure Groups.

Section (B)- Public Administration & Good Governance

  1. Public Administration: Introduction, meaning scope and significance.
  2. Public and Private Administration.
  3. Union Administration : Central Secretariat, Cabinet Secretariat, Prime Minister’s office, Planning Commission, Finance Commission.
  4. State Administration : State Secretariat, Chief Secretary, Chief Minister’s Office.
  5. District Administration: origin and development of the office the District Magitrate and Collector: Changing Role of the District  Collector; Impact of the Separation of Judiciary on District Administration.
  6. Personnel Administration : Recruitment of Civil Services: Union Public Service Commission and the State Public Service Commission; Training of Civil Servants; Leadership and its qualities, Employee’s Morale and Productivity.
  7. Delegation, Centralization and decentralization of authority.
  8. Bureaucracy : Origin, its merits and demerits; Role of Bureaucracy in policy formulation and its implementation. Nexus between Bureaucracy and political Executive; Generalist versus Specialist.
  9. Development Administration.
  10. Disaster Management : Causes, Meaning and Classification of Disaster; Mitigation : Immediate and Long- term measures.
  11. Good Governance: Meaning and concept of Good and Responsive Governance; Main features of Good Governance: Accountability Transparency, Honesty and Quick Delivery; Role of Civil Society and Peoples Participation in Good Governance. Grievance Redresal Mechanism : Lokpal, Lokayukta, Central Vigilance Commissioner; Citizen’s Charter : Object, machinery and Measures provided in (i) Right to service Act; (ii) Right to information Act ;(iii) Right to Education Act (iv) The Consumer Protection Act; (v) Domestic Violence Against Women (Prevention ) Act; (vi) Old age Act.
  12. Human Rights : Concept and Meaning : Universal Declaration of Human Rights, National Human Rights Commission; State Human Rights Commission;  Human Rights and Social Issues; human Rights and Terrorism.

 Paper-V

Total Marks : 200                      Time : 3 hours

The question-paper on Indian Economy, globalization and Sustainable Development shall consist of five sections. Section I Shall be compulsory. This section shall contain twenty objective questions each of 2 marks (20×2=40) marks. The twenty objective questions of this section from shall be drawn from the entire syllabus of the paper; of which 6 questions will be drawn from Group-A,6 from Group- B, 4 from Group C and 4 from Group D of the syllabus. Section II, III,& V of the question paper shall have two optional questions each; drawn respectively from Group-A,B,C & D of the syllabus, of which the candidates will be required to answer one question from each group carrying 40 marks each and 4 optional questions, each carrying 40 marks. The optional questions shall be answered in the traditional, descriptive form; requiring long answers.

Group (A) – Basic features of Indian Economy

  1. National Income : elementary concepts of national income and methods of its calculation e.g. GDP, GNP, NDP, NNP, GSDP, NSDP, DDP at constant and current prices, at factor cost etc.
  2. Inflation: Concept Control of Inflation : monetary, fiscal and direct measures.
  3. Demographic features : Work force composition. Demographic dividend with special reference to census of 2011, national Population Policy.
  4. Agriculture and Rural Economy : Importance of agriculture in national economy; agricultural growth in India production & productivity; causes of low productivity and measures taken by government to improve agricultural production; Green Revolution, Ever Green Revolution and Rainbow revolution; WTO and agriculture, Marketing and pricing of agricultural inputs and outputs.
  5. Industrial Economy : Policy initiative & Charges.
  6. Public Finance :Nature, importance and scope of Public finance ; public Revenue-Principles and types of taxation; direct, indirect, progressive and proportional, concept of VAT.
  7. Public Expenditure: Theories of public expenditure; causes of growth of public expenditure and its impact on economy; internal and external borrowings.
  8.       Budget : Principles of budgeting; types of budgeting Performance-based. Zero-based; FRMD.
  9. Fiscal Policy : Concept and role of fiscal policy in achieving employment, stability and economic development.
  10. Centre-State fiscal relationship, role of Finance Commission; Financial aspects of 73rd and 74th Constitutional amendments.
  11. Structure of Indian monetary and banking system in India.
  12. (a) Composition and direction of India’s trade; Balance of payment problem.

Group (B)- Sustainable Development, Economic Issues and Indian Development Strategy

  1. Meaning and Measurement of Economic development; Characteristics of Under Development.
  2. Indicators of development : HDI, GDI, GEM, India’s HDI progress.
  3. Role of Foreign capital & technology in growth of economy.
  4. Sustainable development : concept and indicators of sustainable development. Economic, social and environmental Sustainability, concept of Green GDP, Strategy and policy of sustainable development in India.
  5. Meaning of inclusive growth and development policy and strategy during 11th and 12th five year plans.
  6. Development status and issues pertaining to socially and economically marginalized sections, like STs, SCs, religious minorities, backward castes and women, schemes launched for their development by Central/State Governments, including TSP,SCSP and minorities.
  7. Poverty and Un-employment; Measurements and trends, identification of BPL families, HPI, Multi Dimensional, Indian Poverty Index.
  8. Food and Nutritional Security : Trends in Food production and consumption in India; Problem of Food Security :  Problems and issues of storage; procurement, distribution, import and export; Government policies, Schems and programmers such as, PDS, ICDS and Mid-day Meal etc.
  9. Governmental Policies for food and nutritional security.
  10. Planning strategy : Objectives and strategy of Indian Five year Plans, Functions and Role of NDC, Planning Commission.
  11. Decentralized Planning : Meaning and importance PRIS, and decentralized planning ; major initiatives in India.

Group (C) Economic Reforms, Nature and Impact on Indian Economy

  1. New economic Reforms- Liberalization, Privatization and Globalization, rational and need for reforms, international financial institutions IMF, World Bank, WTO, their role and impact on Indian economy.
  2. Financial and Banking sector reforms, economic reforms and rural banking impact on rural credit : sources and problems of rural credit, institutional credit, SHG, micro finance, NABARD,RRBs, Scheduled Commercial Banks, rural co-operatives. Financial inclusion.
  3.       Globalization of Indian economy : its positive and negative impacts on different sectors, issues of FDI and FII In India.
  4. Agricultural sector reforms and its impact on growth issues of subsides and  public investment on agriculture reforms and agrarian crisis.
  5. Industrial development and Economic reforms in India Major changes in industrial policy, its impact on industrial growth and problems of SMEs,; role of Public Sector enterprises in India’s Industrialization in post reforms period, Disinvestment and Privatization of Public enterprises.

Group (D)- economy of Jharkhand : features, issues, Challenges and Strategies

  1. Economic growth and structure of Jharkhand’s economy, Sectoral composition, growth in SDP and per capital NSDP in last decade, Agricultural and industrial growth in Jharkhand.
  2. Demographic features of Jharkhand : Population growth sex ratio, density, literacy, composition of work  force, rural- urban composition etc. with special reference to Census of 2001 and 2011, inter district variations.
  3. Status of poverty, unemployment,  food security, malnutrition, issues of agricultural and rural development, major programs and schemes; poverty alleviation programms; PURA, Bharat Nirman, MGNREGA, PMGSY,SGSY, IAY, NRLM etc. Food security schemes.
  4. Land, Forest and environment  issues in Jharkhand : land reforms and agrarian relations, tribal land alienation, development induced displacement of people; its impacts and policy initiatives; Forest issues and implementation of FRA, Environmental degradation and State policy to deal with to,
  5. Five year plans in Jharkhand strategy and achievement in Xth and XIth plan, TSP and SCSP, Public finance trends in Jharkhand, Industrial policy in Jharkhand and industrial development.

Paper-VI

Total Marks: 200                                                                                           Time : 3 hours

The question paper of General Science, Environment & Technology Development shall have six sections. Section-1, shall have 20 objective types of questions, each of 2 marks (20×2=40 marks). Questions for this section will be drawn at the rate of four questions from each of the five Groups of  the syllabus. Sections II, III,IV, V and VI of the question paper shall have two optional questions each, drawn respectively from Group A,B,C D and E of the syllabus; of which candidates will be required to answer only one questions from each groups, each question carrying 32 marks. Optional questions shall be answered in the traditional manner, requiring descriptive answers, not exceeding 500 to 600 words. Thus, altogether candidates will be required to answer one objective type compulsory question ( 40 marks ) and five descriptive type optional questions ( 5×32= 160 marks).

 Group A – Physical Science

  1. System of Unity : MKS, CGS and SI
  2. Definition of speed, velocity, gravity, mass, weight, force, impact, work, power and energy.
  • Solar system, relative position of Earth with respect to Sun and other planets, movement of earth and moon in solar system, Lunar and solar eclipses.
  1. Concept and nature of sound, Wave length and frequency, Infrasonic and Ultrasonic Sounds, Sources of infrasonic sound in nature. Ultrasonic sound characteristics and some applications.

Group B – Life Science

  1. The living world, Cell-Structure and its functions, Diversity of organism.
  2. Bio molecules : Structure and function of carbohydrates, proteins and fats, Vitamins and deficiency diseases, Enzymes, Hormones- Plant hormones and growth regulation, Animal hormones and their functions.
  3. Cell reproduction : Cell cycle, Mitosis and Meiosis.
  4. Medallion Inheritance : Monohybrid and Dihybrid cross, sex linked Inheritance, sex Determination, DNA Structure & Function, DNA Replication, Protein synthesis, Gene Regulation, Molecular basis of differentiation.
  5. Theories of Evolution of Life on earth, including Human Evolution.

Group C – Agriculture Science

  1. Different agro – climatic zones of Jharkhand, rain fall pattern and known biotic stresses in each zone.
  2. Rain fed agriculture, Conventional food and horticultural crops of the state, Need for diversification of crops for food as well as nutritional security in the wake of climate change; Rain  water harvesting and its role in improving agriculture output in Jharkhand; Fish faming.
  3. Soil fertility status of Jharkhand – application of vermin compost and Farm yard manure (FYM) for improving soil health, nitrogen fixing bacteria, their applications and concept of organic farming.
  4. Concept of Agro-forestry. Waste land and means to reclaim them.
  5. Government Schemes for the benefit of the farmers of the state.

Group D – Environmental Science

Concept of Ecosystem, Structure and Function of Ecosystem, Natural resources – Renewable and Non renewable resources,  Environmental Conservation-in situ and ex situ conservation, Pollution – Air , Water , Sound and Soil Solid Waste management, Biodiversity : Concept, hotspots, threats to Biodiversity; Global  Environmental Issues: Climate Change, Global warming, ozone layer depletion, Acid rain, Desertification, Environmental Laws – The Environment (Protection) Act, The Air (Prevention & Control of Population) Act, The Water ( Prevention & Control of Pollution) Act, Forest Conservation Act.

Group E – Science & Technology Development

National Policy on Science and Technology : Energy demand of the country; Conventional and Non- Conventional Sources of energy; Nuclear Energy : its merits and demerits; Trends in Nuclear Policy, NPT and CTBT. Space Technology –Indian Space programmes ; Application of Satellites for different purposes, Indian missile programmes, Remote sensing :  GIS and its application in weather forecasting ,disaster warning,  mapping of water, soil, and mineral resources etc, Use of Biotechnology in agriculture, animal breeding, pharmaceuticals, food technology and environmental conservation : Possible adverse effects of biotechnological interventions; information technology: Computers and its application in data processing, data programmes, Cybercrime and cyber laws. National Health Policy : national Parogrammes for Prevention and control of Malaria leprosy, T.B Cancer, Aids, Blindness etc.

HINDI MEDIUM

  • प्रारम्भिक परीक्षा का स्वरूप

 झारखण्ड लोक सेवा आयोग संयुक्त असैनिक सेवा प्रतियोगिता (प्रारंभिक) परीक्षा का आयोजन निम्न स्वरूप पर करेगी-

  1. प्रारंभिक परीक्षा में दो अनिवार्य प्रश्न पत्र होगा, जिसे प्रथम पत्र एवं द्वितीय पत्र के नाम से जाना जायेगा| (a) पेपर-1: सामान्य अध्ययन

नोट

  1. प्रश्न पत्र- सामान्य अध्ययन पर केन्द्रित होगा| इसमें भारतीय इतिहास, राजव्यवस्था एवं शासन, आर्थिक एवं धारणीय विकास, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी , झारखण्ड से संबंधित प्रश्न, समसमायिक घटनाएँ एवं बहुविध प्रकृति के प्रश्न शामिल किये जायेंगे|
  2. प्रत्येक प्रश्न के दो अंक होगें | इस प्रकार यह प्रश्न पत्र 200 अंकों का होगा|
  3. प्रश्नों के प्रकृति बहु-विकल्पीय /वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे|

(b) पेपर -2: सामान्य अध्ययन (झारखण्ड से संबंधित प्रश्न)

  1. प्रश्नों की संख्या 100( बहु वैकल्पिक ) होगा|
  2. प्रत्येक प्रश्न के लिए दो अंक निर्धारित की गई है|

पूर्णांक : 200                                    समय: 2 घंटे  

इस पत्र में 100 बहुवैकल्पिक/ वस्तुपूरक ( objective types) प्रश्न होंगे|

प्रत्येक प्रश्न 2 अंक का होगा | सभी प्रश्नों का उत्तर देना अनिवार्य होगा |

A .        झारखण्ड का इतिहास :              8 प्रश्न                                               8´2=16

 (क) मुण्डा शासन व्यवस्था – ( 1 प्रश्न )

(ख) नागवंशी शासन व्यवस्था           – ( 1 प्रश्न )

(ग) पाड़हा पंचायत शासन व्यवस्था   – ( 1 प्रश्न )

(घ) मांझी परगना शासन व्यवस्था      – ( 1 प्रश्न )

(ङ) मुण्डा मानकी शासन व्यवस्था    – ( 1 प्रश्न )

(च) ढोकला सोहोर शासन व्यवस्था    – ( 1 प्रश्न )

(छ) जातीय पंचायत शासन व्यवस्था- ( 1 प्रश्न )

  1. झारखण्ड आन्दोलन :                7 प्रश्न                                        7´2=14

 (क) झारखण्ड के सदान                – ( 1 प्रश्न )

(ख) झारखण्ड के आदिवासी           – ( 1 प्रश्न )

(ग) झारखण्ड के स्वतंत्रता सेनानी    – ( 1 प्रश्न )

(घ) झारखण्ड के विभूति                – (2 प्रश्न )

(ङ) झारखण्ड आन्दोलन एवं राज्य गठन – ( 2 प्रश्न )

  1. झारखण्ड की विशिष्ट पहचान :                5 प्रश्न                            5´2=10

(क) झारखण्ड की सामाजिक स्थिति – ( 1 प्रश्न )

(ख) झारखण्ड की सांस्कृतिक स्थिति             – ( 1 प्रश्न )

(ग) झारखण्ड की राजनितिक स्थिति             – ( 1 प्रश्न )

(घ) झारखण्ड की धार्मिक स्थिति                 – ( 1 प्रश्न )

(ङ) झारखण्ड की धार्मिक विशिष्टताएँ एवं पहचान – ( 1 प्रश्न )

  1. झारखण्ड का लोक सहित्यनृत्यसंगीतवद्यदर्शनीय स्थल एवं आदिवासी संस्कृति:

प्रश्न                            5´2=10

(क) लोक सहित्य                                      – ( 1 प्रश्न )

(ख) प्रारंपरिक कला एवं लोक नृत्य              – ( 1 प्रश्न )

(ग) लोक संगीत एवं वाद्य                           – ( 1 प्रश्न )

(घ) दर्शनीय स्थल – प्राकृतिक, पूरातात्विक, ऐतिहासिक धार्मिक एवं आधुनिक स्थल – ( 1   प्रश्न )

(ङ) आदिवासी-जाति – प्रजाति एवं विशेषताएँ             – ( 1 प्रश्न )

  1. झारखण्डी साहित्य और साहित्यकार                                           5´2=10

            झारखण्डी साहित्य एवं साहित्यकार               – ( 5 प्रश्न )

  1. झारखण्ड के प्रमुख शिक्षण संस्थान 3´2=6 

            प्रमुख शिक्षण संस्थान                                            – (  3 प्रश्न )

  1. झारखण्ड के खेल– कूद – ( 5 प्रश्न )                      5´2=10
  2. झारखण्ड के भूमि सम्बन्धी कानून/अधिनियम : 12´2=24

            (क) छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम (C.N.T) – ( 5 प्रश्न )

(ख) संताल परगना काश्तकारी अधिनियम (S.P.T) – ( 5 प्रश्न )

(ग) अन्य राज्य परक अधिनियम                   – ( 5 प्रश्न )

  1. 1947 से राज्य में आर्थिक विकास का इतिहास झारखण्ड का भूगोल-जंगल, नदी, पहाड़,- पर्वत खान-खनिज आदि                                     – (10 प्रश्न )                     10´2=20

J .         झारखण्ड के प्रमुख  औद्योगिक नीति,विस्थापन और पुनर्वास नीति एवं अन्य नीतियाँ                                                                                    – (6 प्रश्न )                        6´2=12

K .        झारखण्ड के प्रमुख उद्योग का नाम और स्थान तथा औद्योगिक विक   – ( 5 प्रश्न )                     5´2=10

L .         झारखण्ड की प्रमुख योजनाएँ एवं उपयोजनाएं            – ( 5 प्रश्न )        5´2=10

M .       झारखण्ड में जंगल प्रबंधन एवं वन्य जीव जंतु संरक्षण कार्य –(5 प्रश्न)     5´2=10

  1. झारखण्ड राज्य के पर्यावरण संबंधी तथ्य, हो रहें पर्यावरण परिवर्तन एवं उसके अपशमन (Mitigaion) एवं अनुकूलन ( Adaptation ) संबंधी विषय –( 7 प्रश्न)          7´2=14
  2. झारखण्ड में आपदा प्रबंधन – ( 5 प्रश्न )                      5´2=10
  3. झारखण्ड से संबंधित विविध तथ्यों एवं समसामयिक घटनाएं – ( 7 प्रश्न ) 7´2=14
सिविल सेवा परीक्षा की पुनरीक्षित योजना ( विषय ) अवधि ( घंटा ) अधिकतम अंक न्यूनतम अर्हत्ता अंक प्रश्न प्रकृति
(A) प्रारंभिक परीक्षा ( स्क्रीनिंग टेस्ट)
सामान्य अध्ययन पेपर-1 2 घंटे 200 वर्गानुसार वस्तुनिष्ठ प्रकार
सामान्य अध्ययन पेपर-2

( झारखण्ड से संबंधित प्रश्न )

2 घंटे 200 वर्गानुसार वस्तुनिष्ठ प्रकार
  • मुख्य परीक्षा का स्वरूप

           

सिविल सेवा परीक्षा की पुनरीक्षित योजना ( विषय ) अवधि

( घंटा )

अधिकतम

अंक

न्यूनतम अर्ह्त्ता अंक टिप्पणी
(B) मुख्य परीक्षा ( कोई ऐच्छिक विषय नहीं| सभी पत्र सामान्य और अनिवार्य हैं )
प्रश्न पत्र-I : सामान्य हिंदी और सामान्य अंग्रेजी, दो अलग –अलग खंडों में (i) सामान्य हिंदी, और (ii) सामान्य अंग्रेजी, प्रत्येक 50 अंक का | 3 घंटा 100 शून्य विवरणात्मक प्रकार
प्रश्न पत्र-II : भाषा और साहित्य: इस पत्र के अंतर्गत प्रत्येक विद्यार्थी को एक भाषा और साहित्य का चयन कमीशन द्वारा सूचीबद्ध 15 भाषाओं में से करना होगा | 3 घंटा 150 शून्य विवरणात्मक प्रकार
प्रश्न पत्र-III : सामाजिक विज्ञान, दो पृथक खण्डों से युक्त ,(i) इतिहास, (ii) भूगोल, प्रत्येक समान रूप से भारित| 3 घंटा 200 शून्य विवरणात्मक प्रकार

 

प्रश्न पत्र- IV : भारतीय संविधान और राजव्यवस्था, लोक प्रशासन और सुशासन 3 घंटा 200 शून्य उपरोक्त
प्रश्न पत्र- V : भारतीय अर्थव्यवस्था , वैश्वीकरण और धारणीय विकास 3 घंटा 200 शून्य उपरोक्त

 

प्रश्न पत्र – VI : सामान्य विज्ञान, वातावरण औरतकनीकी 3 घंटा 200 शून्य उपरोक्त

 

कुल अंक ( मुख्य परीक्षा ) 1000 आयोग के विवेक पर शून्य
व्यक्तित्व परिक्षण 100 शून्य
कुल अंक 1150 शून्य

प्रारंभिक  परीक्षा का पाठ्यक्रम

झारखण्ड सिविल सेवा प्रारंभिक का पुनरीक्षित (संशोधितपाठ्यक्रम

परिशिष्ट

प्रारंभिक परीक्षा में दो अनिवार्य प्रश्न पत्र होगा, जिसे प्रथम पत्र एवं द्वितीय पत्र के नाम से जाना जायेगा |

(a) पेपर – 1 : सामान्य अध्ययन

नोट-

  1. प्रश्न पत्र-1 सामान्य अध्ययन पर केन्द्रित होगा | इसमें भारतीय इतिहास, राजव्यवस्था एवं शासन, आर्थिक एवं धारणीय विकास, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, झारखण्ड से संबंधित प्रश्न, समसमायिका घटनाएँ एवं बहुविध प्रकृति के प्रश्न शामिल किये जायेंगे |
  2. प्रत्येक प्रश्न के दो अंक होगे | इस प्रकार यह प्रश्न पत्र 200 अंकों का होगा |
  3. प्रश्नों के प्रकृति बहु-विकल्पीय/वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे |

प्रथम पत्र

सामान्य अध्ययन

 

कुल अंक : 200                                                                                                   समय : 2 घंटे
इस प्रश्न पत्र में 100 वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न होंगे, प्रत्येक प्रश्न 2 अंक का होगा, निचे दिए विषयों की सूची से लिए जायेंगे | परीक्षार्थियों को सभी प्रश्नों के उत्तर देने होंगे |

 

(a) भारत का इतिहास :                                                      15 प्रश्न

  1. प्राचीन भारत                                                                  (5 प्रश्न )
  2. मध्यकालीन भारत                                                           (5 प्रश्न )
  3. आधुनिक भारत                                                               (5 प्रश्न )

(b) भारत का भूगोल                                                               10 प्रश्न

  1. सामान्य भूगोल                                                                 ( 3 प्रश्न )
  2. भौतिक भूगोल                                                                 ( 3 प्रश्न )
  3. आर्थिक भूगोल                                                                 ( 2 प्रश्न )
  4. सामाजिक और जनांकिकीय, भूगोल                                 (2 प्रश्न )

(c)        भारतीय राजव्यवस्था और शासन :                              10 प्रश्न

  1. भारत का संविधान                                                                (4 प्रश्न )
  2. लोक प्रशासन और सुशासन                                                  (4 प्रश्न )
  3. विकेंद्रीकरण : पंचायत और नगर पालिका                             ( 2 प्रश्न )

(d)        आर्थिक और टिकाऊ ( धारणीय ) विकास :             (10 प्रश्न )

  1. भारतीय अर्थव्यवस्था के आधारभूत लक्षण                            (4 प्रश्न )
  2. धारणीय विकास और आर्थिक मुद्दे                                       ( 4 प्रश्न )
  3. आर्थिक सुधार और वैश्वीकरण                                             ( 2 प्रश्न ) 

(e)        विज्ञान और प्रौद्योगिकी :                                          15 प्रश्न

  1. सामान्य विज्ञान                                                                 (4 प्रश्न )
  2. कृषि और तकनीकी विकास                                              (6 प्रश्न )
  3. सुचना और संचार तकनीकि                                               (3 प्रश्न)

(f)       झारखण्ड से जुड़े प्रश्न ( इतिहाससमाजसंस्कृत और विरासत से जुडी सामान्य अभिरूची ) : 10 प्रश्न

(g)        राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय समसामयिक घटनाएँ            15 प्रश्न

(h)        वहुविध प्रकृति के प्रश्नजिनके लिए विषयगत विशेषज्ञता आवश्यक नहीं है,15 प्रश्न  जैसे : 15 प्रश्न

  1. मानवाधिकार
  2. वातावरणीय सुरक्षा, जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन
  3. नगरीयकरण
  4. खेलकूद
  5. आपदा प्रबंधन
  6. गरीबी और बेरोजगारी
  7. पुरस्कार
  8. संयुक्त राष्ट्र संघ और दूसरी अंतराष्ट्रीय एजेंसियां

(b) पेपर– 2 : सामान्य अध्ययन ( झारखण्ड से संबंधित प्रश्न)

  1. प्रश्नों की संख्या 100 ( बहु वैकल्पिक) होगी |
  2. प्रत्येक प्रश्न के लिए दो अंक निर्धारित की गई है |

पूर्णांक : 200                              समय : 2 घंटे

इसपत्र में 100 बहु वैकल्पिक/ वस्तुपूरक ( objective types) प्रश्न होंगे |

प्रत्येक प्रश्न 2 अंक का होता | सभी प्रश्नों का उत्तर दें अनिवार्य होगा |

 द्वितीय पत्र

सामान्य अध्ययन

 

कुल अंक : 200                                                                                                               समय : 2 घंटे 
  1. झारखण्ड का इतिहास 8 प्रश्न 8´2 = 16

(क) मुण्डा शासन व्यवस्था              – ( 1 प्रश्न )

(ख) नागवंशी शासन व्यवस्था                       – ( 1 प्रश्न )

(ग) पाड़हा पंचायत शासन व्यवस्था   – ( 1 प्रश्न )

(घ) मांझी परगना शासन व्यवस्था      – ( 1 प्रश्न )

(ङ) मुण्डा मानकी शासन व्यवस्था    – ( 1 प्रश्न )

(च) ढोकला सोहोर शासन व्यवस्था    – ( 1 प्रश्न )

(छ) जातीय पंचायत शासन व्यवस्था   – ( 1 प्रश्न )

 

  1. झारखण्ड आन्दोलन :             7 प्रश्न              7´2=14

(क) झारखण्ड के सदान                            – ( 1 प्रश्न )

(ख) झारखण्ड के आदिवासी                       – ( 1 प्रश्न )

(ग) झारखण्ड के स्वतंत्रता सेनानी                – ( 1 प्रश्न )

(घ) झारखण्ड के विभूति                            – (2 प्रश्न )

(ङ) झारखण्ड आन्दोलन एवं राज्य गठन       – ( 2 प्रश्न )

  1. झारखण्ड की विशिष्ट पहचान :                5 प्रश्न                             5´2=10

(क) झारखण्ड की सामाजिक स्थिति        – ( 1 प्रश्न )

(ख) झारखण्ड की सांस्कृतिक स्थिति             – ( 1 प्रश्न )

(ग) झारखण्ड की राजनितिक स्थिति             – ( 1 प्रश्न )

(घ) झारखण्ड की धार्मिक स्थिति                  – ( 1 प्रश्न )

(ङ) झारखण्ड की धार्मिक विशिष्टताएँ एवं पहचान – ( 1 प्रश्न )

  1. झारखण्ड का लोक सहित्यनृत्यसंगीतवद्यदर्शनीय स्थल एवं आदिवासी संस्कृति:

प्रश्न                            5´2=10

 (क) लोक सहित्य               – ( 1 प्रश्न )

(ख) प्रारंपरिक कला एवं लोक नृत्य              – ( 1 प्रश्न )

(ग) लोक संगीत एवं वाद्य                            – ( 1 प्रश्न )

(घ) दर्शनीय स्थल – प्राकृतिक, पूरातात्विक, ऐतिहासिक धार्मिक एवं आधुनिक स्थल – ( 1   प्रश्न )

(ङ) आदिवासी-जाति – प्रजाति एवं विशेषताएँ             – ( 1 प्रश्न )

  1. झारखण्डी साहित्य और साहित्यकार                                           5´2=10

            झारखण्डी साहित्य एवं साहित्यकार               – ( 5 प्रश्न )

  1. झारखण्ड के प्रमुख शिक्षण संस्थान 3´2=6 

            प्रमुख शिक्षण संस्थान                                – (  3 प्रश्न )

  1. झारखण्ड के खेल– कूद – ( 5 प्रश्न )                      5´2=10
  2. झारखण्ड के भूमि सम्बन्धी कानून/अधिनियम : 12´2=24

            (क) छोटानागपुर काश्तकारी अधिनियम (C.N.T) – ( 5 प्रश्न )

(ख) संताल परगना काश्तकारी अधिनियम (S.P.T) – ( 5 प्रश्न )

(ग) अन्य राज्य परक अधिनियम                   – ( 5 प्रश्न )

  1. 1947 से राज्य में आर्थिक विकास का इतिहास झारखण्ड का भूगोल-जंगल, नदी, पहाड़,- पर्वत खान-खनिज आदि         – (10 प्रश्न )                     10´2=20

J .         झारखण्ड के प्रमुख  औद्योगिक नीति,विस्थापन और पुनर्वास नीति एवं अन्य नीतियाँ                       – (6 प्रश्न )                       6´2=12

K .        झारखण्ड के प्रमुख उद्योग का नाम और स्थान तथा औद्योगिक विकास- ( 5 प्रश्न )  5´2=10

L .         झारखण्ड की प्रमुख योजनाएँ एवं उपयोजनाएं            – ( 5 प्रश्न )              5´2=10

M .       झारखण्ड में जंगल प्रबंधन एवं वन्य जीव जंतु संरक्षण कार्य –(5 प्रश्न)           5´2=10

  1. झारखण्ड राज्य के पर्यावरण संबंधी तथ्य, हो रहें पर्यावरण परिवर्तन एवं उसके अपशमन (Mitigaion) एवं अनुकूलन ( Adaptation ) संबंधी विषय – ( 7 प्रश्न)                                      7´2=14
  2. झारखण्ड में आपदा प्रबंधन – ( 5 प्रश्न )                      5´2=10
  3. झारखण्ड से संबंधित विविध तथ्यों एवं समसामयिक घटनाएं – ( 7 प्रश्न ) 7´2=14

Syllabus for the Main Examination

मुख्य परीक्षा का पाठ्यक्रम

परिशिष्ट – 1 ( )

झारखण्ड सिविल सेवा मुख्य परीक्षा का पाठ्यक्रम

 मुख्य  परीक्षा  के छः  अनिवार्य प्रश्न- पत्र होंगे, जो सभी उम्मीदवारों के लिए समान (Common) होंगे | इनमें से दो प्रश्न-पत्र भाषा आधारित होंगे, प्रथम पत्र- सामान्य hindi व अंग्रेजी भाषा की परीक्षा 100 अंकों का होगा, द्वितीय पत्र – क्षेत्रीय भाषा और साहित्य मुख्य परीक्षा 150 अंकों का होगा | शेष चार प्रश्न- पत्र; प्रत्येक 200 अंकों का होगा | भाषा आधरित प्रश्नों- पत्रों में होंगे : (i) सामान्य हिन्दी और समान्य अंग्रेजी का संश्लिष्ट प्रश्न-पत्र, (ii) चयनित भाषा और साहित्य का ऐच्छिक प्रश्न-पत्र | विषय आधारित प्रश्न-पत्रों में होंगे : (i) सामाजिक विज्ञान (इतिहास और भूगोल ) (ii) भारतीय संबिधान, राजव्यवस्था, लोक प्रशसन और सुशासन (iii) भारतीय अर्थव्यवस्था, उदारीकरण और टिकाऊ विकास, और (iv) सामान्य विज्ञान, वातावरण और तकनीक विकास |

उपरोक्त सभी छः पत्रों के विस्तृत पाठ्यक्रम इस प्रकार है :

प्रश्न– पत्र – 1

सामान्य हिंदी और सामान्य अंग्रेजी

कुल अंक : 100                                                                                                             समय : 3 घंटे

सामान्य हिन्दी और सामान्य अंग्रेजी का पत्र संश्लिष्ट होगा, जिसमें दो खण्ड होंगे, जिनके नाम –

(i) हिन्दी और (ii) अंग्रेजी | दोनों खंडो को समान भारित किया गया है, अर्थात , प्रत्येक 50 अंक का होगा | इस प्रश्न – पत्र का उद्देश्य उपरोक्त दोनों भाषओं में उमीदवार की कार्यिक योग्यता का परिक्षण करना है | इस प्रश्न- पत्र के दोनों खण्डों में पूछे गए प्रश्न मैट्रिक स्तर के होंगे और निम्नलिखित क्षेत्रों से जुड़े होंगे :

(A) सामान्य हिन्दी :                            50 अंक

(क) निबन्ध (400 शब्दों का )               ( 15 अंक )

(ख) व्याकरण                                       ( 15 अंक )

(ग) वाक्य विन्यास                                  ( 10 अंक )

(घ) संक्षेपण                                           ( 10  अंक )

(B)  सामान्य अंग्रेजी :                        ( 50 अंक )

  1. निबन्ध ( 400 शब्द ) ( 15 अंक )
  2. व्याकरण ( 15 अंक )
  3. गद्यांश को समझना ( 10  अंक )
  4. संक्षेपण ( 10 अंक )

इस प्रश्न-पत्र में केवल अर्हता प्राप्त करनी है जिसके लिए 100 में ( संयुक्त हिन्दी और अंग्रेजी- दोनों) से केवल (30 अंक )प्रत्येक उम्मीदवार को लाने होंगे| इस प्रकार समाहित 50 अंकों का समान्य अंग्रेजी खण्ड से हिन्दी / क्षेत्रीय भाषओं को पृष्ठ वाले विद्यार्थियों की संभावनाओं पर विपरीत प्रभाव नहीं पड़ेगा |

 प्रश्न – पत्र – iii

सामाजिक विज्ञान ( इतिहास और भूगोल )

 कुल अंक : 200                       समय : 3 घंटे

सामाजिक विज्ञान के प्रश्न पत्र डे दो पृथक खंड होंगे, एक इतिहास और दूसरा भूगोल, प्रत्येक 100 अंकों का होगा | उम्मीदवारों को एक अनिवार्य और दो ऐच्छिक प्रश्न प्रत्येक खंड से अर्थात कुल छः प्रश्नों का उत्तर देना है | प्रत्येक खण्ड के अनिवार्य प्रश्न में संबंधित खंड के पूरे पाठ्यक्रम को आवृत करते हुए 10 वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न होंगे, प्रत्येक दो अंक का होगा ( 10´2 =20 अंक ) | इसके अतिरिक्त इतिहास और भूगोल खंड में से प्रत्येक चार  ऐच्छिक प्रश्न होगे | इतिहास और भूगोल दोनों से प्रत्येक के चार पृथक उपखंड है, एक प्रश्न प्रत्येक उपखंड से होगा, इस तरह कुल चार ऐच्छिक प्रश्न दोनों विशिष्ट खंड इतिहास और भूगोल में  होंगा , जिसमें से उम्मीदवार  को सिर्फ दो प्रश्नों प्रत्येक 40 अंक , का उत्तर देना होगा | ऐच्छिक प्रश्नों का दीर्घ- उत्तर परंपरागत, विवरणात्मक शैली में अपेक्षित होगा |

खण्ड (A) इतिहास : 100 अंक

(a) प्राचीन काल

  1. सिंधु घाटी सभ्यता : उत्पति, पुरातत्व (प्राचीनकाल), विस्तार, साहित्यिक कार्य और मुख्य लक्षण |
  2. सर्यों की उत्पत्ति |
  3. वैदिक साहित्य की पुरातनता और स्तरीकरण, पूर्ण ( ऋग – वैदिक ) काल के दौरान समाज, अर्थव्यस्था और धर्म |
  4. लिच्छिवी और उनका गणतंत्रात्मक गठन |
  5. मगध सम्राज्य का उदय|
  6. मौर्य : सम्राज्य का विस्तार , कलिंग युद्ध और इसका प्रभाव, अशोक का धम्म, विदेशनीति, कला और स्थापत्य का मौर्यकाल के दौरान विकास|
  7. कुषाण : कनिष्क : साम्राज्य का विस्तार , उसकी धार्मिक नीति, कुषाण काल के दौरान कला, स्थापत्य और साहित्य का विकास |
  8. गुप्त: सम्राज्यका विस्तार, गुप्त काल के दौरान भाषा और सहित्य, कला तथा स्थापत्य का विकास |
  9. हर्ष-वर्द्धन : उत्तर भारत का अंतिम हिंदु शासक, उसके काल की सांस्कृतिक उपलब्धियाँ
  10. चोल : दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में समुद्री गतिविधियाँ, चोल प्रशासन, कला और साहित्य |
  11. पल्लवों की सांस्कृतिक उपलब्धियाँ |

(b) मध्यकाल

  1. भारत पर अरबो का आक्रमण |
  2. गजनवी का भारत पर आक्रमण |
  3. दिल्ली सल्तनत: अलाउद्दीन खिलजी का बाजार नीति और सैन्य सुधार, मुहम्मद- बिन- तुगलक की काल्पनिक (यूटोपियन) नीतियाँ |
  4. भारत पर मंगोल आक्रमण |
  5. धार्मिक आन्दोलन: (a) सूफीवाद (b) भक्ति आंदोलन |
  6. नई –इस्लामिक संस्कृति का आरंभ, भारतीय इस्लामिक स्थापत्य हिन्दी और उर्दू भाषओं का विकास |
  7. मुगल : पानीपत का प्रथम युद्ध, शेरशाह सूरी की उपलब्धियाँ मुगल साम्राज्य का सुदृढीकरण , अकबर की धार्मिक और राजपूत नीतियाँ, औरंगजेब की धार्मिक और राजपूत नीतियाँ, मुगल स्थापत्य और चित्रकारी, मुगल काल के दौरान आर्थिक दशाएँ |
  8. मराठो का उदय : शिवाजी की उपलब्धियाँ, उत्तर की ओर मराठो का विस्तार और उनका पतन |
  9. यूरोपीय बस्तियों की प्रारंभ, ईस्ट इंडिया कंपनी का गठन और विकास, ब्रिटिश शक्ति का भारत में सुदृढीकरण, प्लासी और बक्सर का युद्ध, मौसूर पर नियंत्रण, सहायक संधि, व्यपगत का सिद्धांत, राजगत सम्पत्ति का सिद्धांत|
  10. औपनिवेशिक शासन के प्रति प्रतिरोध : किसान, जनजातीय और सांस्कृतिक पुर्नजागराण , 1857 का विद्रोह |
  11. हिंदु समुदाय में समाज सुधार आन्दोलन, ब्रह्य समाज, आर्य समाज, रामकृष्ण मिशन, प्रार्थना समाज और भारत का थियोसोफिकल समाज |
  12. मुस्लिम समुदाय में समाज सुधार आंदोलन : वहाबी आंदोलन और अलीगढ़ आंदोलन|
  13. महिलाओं की स्थिति में उठान हेतु संघर्ष, सती प्रथा का उन्मूलन, विधवा विवाह एक्ट, सम्मति ( सहमति ) उम्र एक्ट, महिला शिक्षा पर बल |
  14. ब्रिटिश शासन के अधीन-भू- राजस्व प्रशासन : स्थायी बन्दोवस्त, रैयतबाड़ी और माहलवारी प्रथाएँ |
  15. 19 वीं सदी में भारत में राष्ट्रवाद का उदय : भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का गठन, उदारवादी और अतिवादी, स्वदेशी आंदोलन, होम-रूल लीग आंदोलन, खिलाफत आंदोलन|
  16. महात्मा गांधी और जन आंदोलन, असहयोग आंदोलन, सविनय अवज्ञा आंदोलन,सविनय अवज्ञा आंदोलन, भारत छोड़ो आंदोलन |
  17. भारत का विभाजन और इसके परिणाम |
  18. स्वतंत्रता के बाद भारत देशी राज्यों का भारत में विलय, राज्यों का भाषाई अनुमोदन, नेहरू और गाँधी के अधीन गुटनिरपेक्ष नीति, बांग्लादेश की स्वतंत्रता |

(d ) झारखण्ड का इतिहास    

  1. आदि धर्म अर्थात झारखण्ड के आदिवासियों की सरना संस्कृति |
  2. सदान की संकल्पना और नागपुरिया भाषा का प्रकटन |
  3. झारखण्ड में जनजातीय विद्रोह और राष्ट्रवादी संघर्ष |
  4. बिरसा आंदोलन
  5. टाना भगत आन्दोलन , और
  6. झारखण्ड में स्वतत्रंता आंदोलन |

खंड (B) भूगोल : 100 अंक

(a) भौतिक भूगोल (सामान्य सिद्धांत)

  1. पृथ्वी की उत्पत्ति और विकास, पृथ्वी का अंतराल, वेगनर का महाद्वीपीय प्रवाह सिद्धांत, प्लेट विवर्तनिकी, ज्वालामुखी, भूकंप और सुनामी |
  2. चट्टनों के प्रमुख प्रकार और उनकी विशेषताएँ, जलीय, हिमानी, शुष्क और चूनापत्थर क्षेत्र की स्थलाकृतियों की उत्पति और विशेषताएँ |
  3. भू- आकृतिक प्रक्रियाएं, अपक्षय, वृहत अपशिष्टन, अपरदन और निक्षेपण, मृदा-निर्माण, भू-दृश्य चक्र, डेविस और पेंक के विचार |
  4. वायुमंडल का संघटन, संरचना और स्तरीकरण |
  5. सूर्यताप और पृथ्वी का उष्मा बजट |
  6. तापमान का क्षैतिज और लंबवत वितरण, तापमान का प्रतिलोमन |
  7. वायु राशि ओऊ वताग्र, उष्ण और शीतोष्ण चक्रवात
  8. वाष्पीकरण और संघनन, ओस, पाला, कुहासा, धुंध और बादल, वर्षा के प्रकार
  9. जलवायु का वर्गीकरण ( कोपेन और थर्नाथ्वेट) हरितगृह प्रभाव, वैश्विक तापन और जलवायु परिवर्तन |
  10. जल चक्र, महासागरों और समुद्रों में तापमान का वितरण और प्राप्तिय, लहर, ज्वार-भाटा और धाराएँ, महासागर तल के उच्चाव के लक्षण |

(b) भारत का भौतिक और मानव भूगोल

  1. संरचना, उच्चावच और भू-आकृतिक विभाग, अपवाह प्रणाली : हिमालयी और प्रायद्वीपीय |
  2. भारतीय मानसून, क्रियाविधि, आगमन और निवर्तन, जलवायविक प्रकार ( कोपेन और ट्रिवार्था ), हरित क्रांति और भारत के प्रमुख फसलों पर इसका प्रभाव, खाद्य – संकट |
  3. प्राकृतिक वनस्पति-वनों के प्रकार और वितरण, वन्य जीवन, संरक्षण, जैवमंडल रिजर्व |
  4. मृदा के प्रकार ( ICAR) का वर्गीकरण ) और उनका वितरण मृदा अवनमन और संरक्षण |
  5. प्राकृतिक प्रकोप: बाढ़ , सुखा, चक्रवात, भूस्खलन|
  6. जनसंख्या वृद्धि, वितरण और घनत्व |
  7. आयु : लिंग, अनुपात, ग्रामीण-नगरीय संघटन |
  8. जनसंख्या, वातावरण और विकास |
  9. बस्तियों के प्रकार : ग्रामीण और नगरीय, नगरीय आकारिकी, नगरीय बस्तियों का कार्यात्मक का वर्गीकरण, भारत में मानव बस्तियों की समस्याएँ |

(c) भारत के प्राकृतिक संसाधन विकास और उपयोग

  1. भूमि संसाधन : सामान्य भू- उपयोग, प्रमुख फसलों जैसे- चावल, गेहू, कपास, जुट, गन्ना, रबड़, चाय और कहवा के लिए भौगोलिक दशाएँ और वितरण |
  2. जल संसाधन : उपलब्धता और उद्योग तथा दुसरे उद्देश्यों में इसका उपयोग सिंचाई, जला संकट, वर्षा जल की खेती की संरक्षण की विधियाँ और जल छाजन/ संभरण प्रबंध, भूमिगत जल-प्रबंध |
  3. खनिज और ऊर्जा संसाधन : वितरण और उपयोग (a) धात्विक खनिज (लोहा, अयस्क, तांबा, बाॕक्साइट मैंगनीज), (b) अ – धात्विक और पारंपरिक खनिज (कोयला, पेट्रोलियम, और प्राकृतिक गैस ) (c) जल विद्युत और ऊर्जा के गैर परंपरागत स्रोत (सौर, वायु, बायो-गैस ) (d) ऊर्जा के स्रोत, उनक वितरण और संरक्षण |
  4. उद्योगों का विकास : उद्योगों के अवस्थापना के कारक, कुछ चयनित उद्योगों (लोहा और इस्पात, सूतीवस्त्र, गन्ना और पेट्रोलियम रसायन ) का वितरण और बदलते प्रतिरूप, वेबर का उद्योग स्थानीयकरण सिद्धांत-आधुनिक विश्व में इसकी प्रासंगिकता |
  5. परिवहन, संचार और अंतराष्ट्रीय व्यापार : (a) सड़क, रेल और मार्ग, (b) अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के आधार, भारत के विश्व व्यापार का बदलता प्रारूप |

(d) झारखण्ड का भूगोल और इसके संसाधनों का उपयोग

  1. भू- गर्भिक इतिहास, भू-आकृतियाँ, अपवाह, जलवायु , मिट्टी के प्रकार और वन : कृषि और सिंचाई, दामोदर और स्वर्णरेखा घाटी परियोजनाएँ : झारखण्ड के खनिज संसाधन उनक निकर्षण और उपयोग |
  2. जनसंख्या : वृद्धि, वितरण, घनत्व, जनजातीय जनसंख्या और उनका वितरण, जनजातियों की समस्याएं और जन जनजातीय विकास की योजनाएँ, उनके रीति रिवाज, संस्कार, त्यौहार आदि|
  3. औद्योगिक और नगर विकास, प्रमुख उद्योग-लोहा इस्पात और सीमेंट : कुटीर उद्योग |
  4. नगर- बस्ती का प्रारूप और प्रदूषण की समस्याएं |

प्रश्न पत्र – IV

भारतीय संविधान और राजव्यवस्था,लोक प्रशासन और सुशासन

कुल अंक : 200                                                                                      समय : 3 घंटे

भारतीय संविधान, राजव्यवस्था और लोक प्रशासन के प्रश्न-पत्र के दो पृथक खंड होंगे अथार्त, एक भारतीय संविधान और राजव्यवस्था और दूसरा लोकप्रशासन और सु-शासन, प्रत्येक 100 अंकों का होगा | उमीदवारों को प्रत्येक खंड से एक अनिवार्य और दो ऐच्छिक प्रश्नों के उत्तर देने होंगे| प्रत्येक खंड का अनिवार्य प्रश्न, पूरे पाठ्यक्रम को समाहित करते हुए 10 वस्तुनिष्ठ प्रश्न, प्रत्येक खंड में 4 ऐच्छिक प्रश्न होंगे जिनमें से उमीदवारों को सिर्फ दो प्रश्नों प्रत्येक 40 अंक, के उत्तर देने होंगे | ऐच्छिक प्रश्न दीर्घ उत्तरीय होंगे, जिनका उत्तर पारंपरिक विवरणात्मक रूप में देना अपेक्षित है |

खंड (A) भारतीय संविधान और राजव्यवस्था

  1. भारतीय संविधान की प्रस्तावना ( धर्मनिरपेक्ष, लोकतांत्रिक और समाजवादी ) इससे निहित दर्शन |
  2. भारतीय संविधान के मूल लक्षण, जनहित याचिका की संकल्पना, भारतीय संविधान का आधारभूत ढाँचा |
  3. मौलिक अधिकार और कर्तव्य
  4. राज्य के निति के निति निर्देशक-सिद्धान्त
  5. संघ-सरकार
  6. a) संघ की कार्यपालिका : राष्ट्रपति की शक्तियां और कार्य, उप-राष्टपति, प्रधान मंत्री परिषद : मिली –जुली सरकार के अधीन कार्य |
  7. b) संघीय-विधायिका : लोकसभा और राज्यसभा : संगठन और कार्य, कानून निर्माण की प्रक्रिया, संसदीय समितियाँ, कार्यपालिका पर संसद का नियंत्रण, संसद और इसके सदस्यों के विशेषाधिकार और दंड से छुटकारा|
  8. c) संघ की न्यायपालिका : सर्वोच्च न्यायालय : इसकी भूमिका और शक्तियाँ, प्राकृतिक न्याय और विधि का शासन का सिद्धांत न्यायिक पुनरवलोकन और न्यायिक सक्रियता
  9. राज्य सरकार

(a) राज्य की कार्य पालिका : राज्यपाल की शक्तियाँ और कार्य, मुखियामंत्री और मंत्री परिषद  |

(b) राज्य की बिधायिका : संगठन, शक्तियाँ और कार्य, झारखण्ड के विशिष्ट सन्दर्भ में|

(c) राज्य की न्यायपालिका : उच्च न्यायालय : संगठन शक्तियाँ और कार्य, अधीनस्थ न्यायपालिका|

(d) पंचायत और नगरपालिका : गठन, शक्तियां , कार्य और उत्तरदायित्व 73वें और 74 वें संविधान संशोधनों के विशिष्ट सन्दर्भ में

  1. केंद्र राज्य संबंध : प्रशासनिकविधायी और वित्तीय
  2. अनुसूचित क्षेत्रअनुसूचित जनजातीय क्षेत्र के प्रशासन से संबंधित प्रवाधान
  3. विधायिका और सेवाओं आदि में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के ले सीटों के आरक्षण से संबंधित विशिष्ट प्रावधान
  4. संविधान में आपालकालीन उपबंध
  5. भारत का नियंत्रक और महालेख परीक्षक (सी..जी.)

12.भारत का निर्वाचन आयोग

13.राजनितिक दल और दबाव समूह

खंड (b) लोक प्रशासन और सुशासन

  1. लोक प्रशासन : परिचय, अर्थ, क्षेत्र और महत्व
  2. सार्वजानिक और निजी प्रशासन
  3. संघ का प्रशासन : केन्द्रीय सचिवालय, कौबिनेट सचिवालय, प्रधान मंत्री का कार्यालय, योजना आयोग, वित्त आयोग |
  4. राज्य का प्रशासन : राज्य सचिवालय, प्रधान सचिव, मुख्यमंत्री का कार्यालय
  5. जिला प्रशासन : जिला दंडाधिकारी और कलक्टर ओए कार्यालय का उत्पत्ति और विकास, जिला कलक्टर की बदलती भूमिका, न्यायपालिका के पृथक्करण का जिल-प्रशासन पर प्रभाव|
  6. कार्मिक प्रशासन : लोक सेवाओं को भर्ती, संघ लोक सेवा आयोग और राज्य लोक सेवा आयोग, लोक सेवकों का परिक्षण, नेत्रत्व और इसके गुण, सेवकों का मनोबल और उत्पादकता

20.प्राधिकार का प्रतिनिधित्व, केन्द्रीकरण और विकेंद्रीकरण

  1. नौकरशाही : उत्पत्ति, इसके गुण और दोष, नौकरशाही की नीति निर्माण और इसके क्रियान्वयन में भूमिका, नौकरशाही और राजनितिक कार्यपालिका के बीच संबंध, सामान्य बनाम विशेषज्ञ |.
  2. विकास प्रशासन
  3. आपदा प्रबन्धन : कारण, आपदा का अर्थ और वर्गीकरण, आपदा का शमन, तात्कालिक और दीर्घकालिक उपाय|
  4. सुशासन : अभिप्राय और अच्छे तथा उत्तरदायी शासन की संकल्पना, सुशासन के मुख्य लक्षण, उत्तदायित्व, पारदशिर्ता, ईमानदारी और शीर्घ प्रतिपादन , सिविल सोसायटी की भूमिका और सु-शासन में लोगों की भूमिका, शकायत निवारण की प्रक्रिया : लोकपाल, लोकायुक्त, केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त : सिटिजन चार्टर : लोकपाल, लोकायुक्त, केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त : सिटिजन चार्टर : (i) सेवा का अधिकार, (ii) सूचना का अधिकार,(iii) शिक्षा का अधिकार,(iv) उपभोक्ता संरक्षण एक्ट, (v) महिलाओं के विरूद्ध घरेलू हिंसा एक्ट, (vi) ओल्ड एज एक्ट, उद्देश्य, क्रियाविधि और इनमें उपलब्ध कराए गए उपाय |
  5. मानवाधिकार : अभिप्रया और संकल्पना, मानवाधिकारों की वैश्विक घोषणा, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, राज्य मानवाधिकार आयोग, मानवाधिकार और सामाजिक मुद्दे, मानवाधिकार और आतंकवाद |

प्रश्न पत्र-V

भारतीय अर्थव्यवस्थावैश्वीकरण और धारणीय विकास

कुल अंक : 200                                                                                                   

समय : 3 घंटे

भारतीय अर्थव्यवस्था, वैश्वीकरण और टिकाऊ विकास के प्रश्न-पत्र के पांच खंड होंगे | खंड-1 अनिवार्य होगा | इस खंड में 20 वस्तुनिष्ट प्रश्न, प्रत्येक 2 अंक (20x 2=40 का होगा| इस खंड के 20 वस्तुनिष्ट प्रश्न इस पत्र के संपूर्ण पाठ्यक्रम से लिए जाएगे: इसमें से 6 प्रश्न समूह A, 6 समूह B, 4 समूह C, और 4 समूह D से होंगे | प्रश्न पत्र के खंड II,III,IV और V में से प्रत्येक से 2 ऐच्छिक प्रश्न होंगे  जो पाठ्यक्रम के समूह A,B,C और D से लिए जाएंगे, जिनमें से उम्मीदवार को प्रत्येक समूह से एक प्रश्न, प्रत्येक 40 अंक, का उत्तर देना होगा| इस प्रकार उम्मीदवार को कुल एक अनिवार्य वस्तुनिष्ट प्रकार के प्रश्न, 40 अंक, सहित 4 ऐच्छिक प्रश्न, प्रत्येक 40 अंक का उत्तर देना होगा| ऐच्छिक प्रश्न दीर्घ उत्तरीय होंगे जिनका उत्तर पारंपरिक,विवरणात्मक रूप में देना अपेक्षित है|

समूह

(A) भारतीय अर्थव्यवस्था के आधारभूत लक्षण

  1. राष्टीय आय : राष्टीय आय की मौलिक संकल्पनाएँ इसकी गणना की विधियाँ उदाहरण के लिए जी.डी.पी., जी.एन.पी., एन.डी.पी., एन.एन. पी., एन.एस.डी.पी., डी.डी.पी. नियत और चालू मूल्य, लागत मूल्य आदि पर|
  2. मुंद्रास्फीति : संकल्पना, मुद्रास्फीति पर नियंत्रण : मौद्रिक, वित्तीय और प्रत्यक्ष उपाय
  3. जनांकिकीय लक्षण : कार्य बल संरचना, जनांकिकीय लाभांश जनगणना 2011 के विशेष संदर्भ में, राष्ट्रीय जनसंख्या नीति|
  4. कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था : राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्त्व, भारत में कृषि उत्पादन में वृद्धि-उत्पादन और उत्पादकता, निम्न उत्पादकता के कारण और कृषि उत्पादन में सुधार हेतु सरकार द्वारा उठाए गए कदम, हरित क्रांति, सदाबहार क्रांति और इन्द्रधनुषीक्रांति, डब्लू.टी.ओ. और कृषि, और निर्गम और आगमों का विपणन और मूल्यन|
  5. ओद्योगिक अर्थव्यवस्था : नीतिगत कदम और मूल्य|
  6. लोक वित्त : प्रकृति, महत्व और क्षेत्र, सार्वजानिक राजस्व-सिद्धांत और कर-निर्धारण के प्रकार, प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष, प्रगतिगामी और अनुपातिक, वैट की संकल्पना|
  7. सार्वजानिक व्यय : सार्वजनिक व्यय के सिद्धांत, सार्वजानिक व्यय के बृद्धि के कारण और अर्थव्यवस्था पर इसका प्रभाव, आन्तरिक और बाह्य देनदारिय|
  8. बजट: बजट के सिद्धांत, बजट के प्रकार-निष्पादन आधारित, शून्य आधारित, एफ.आर.एम.डी.
  9. वित्तीय नीति : संकल्पना और रोजगार उपलब्धियों में वित्तीय नीति की भूमिका, स्थिरिता और आर्थिक विकास
  10. केंद्र-राज्य के वित्तीय संबंध, वित्त आयोग की भूमिका, 73 वें और 74 वें संविधान संशोधन के वित्तीय पक्ष|
  11. भारतीय मौद्रिक संरचना और भारत की बैंकिंग प्रणाली|
  12. (A) भारतीय व्यापार की संरचना और दिशा, भुगतान संतुलन की समस्या|

समूह (B) टिकाऊ विकासआर्थिक मुद्दे और भारतीय विकास की रणनीति

आर्थिक विकास का अभिप्राय और मापन,अविकसित होने की विशेषताएँ

  1. विकास के संकेतक, एच. डी.आई., जी.डी.आई., जी.ई.एम., भारत की एच.डी.आई. संबधी प्रगति|
  2. अर्थव्यवस्था के संबंध में विदेशी पंजी और तकनीकि की भूमिका
  3. धारणीय विकास: संकल्पना और धारणीय विकास के संकेतक, आर्थिक, सामाजिक और वातावरणीय धारणीयता, हरित जी.डी.पी. की संकल्पना, भारत में धारणीय विकास की नीति और रणनीति |
  4. समावेशी विकास का अभिप्राय और 11 वीं और 12 वीं पंचवर्षीय योजनाओं के दौरान विकास की नीति रणनीति
  5. सामाजिक और आर्थिक रूप में हाशिए के समूहों जैसे अनुसूचित जनजाति, जाति, धार्मिक अल्प संख्यक, पिछड़ी जाति और महिलाओं के विकास की स्थिति और संबंधित मुद्दे, केंद्र/राज्य सरकारों द्वारा इनके विकास के लिए जारी योजनाएँ, जनजातीय उपयोजना, अनुसूचित जाति उपयोजना और अल्पसंख्यकों सहित|
  6. गरीबी और बेरोजगारी : भारत और प्रवृतियाँ, बी.पी.एल. परिवारों की पहचान, एच.पी.आई., बहुआयामी भारतीय गरीबी सूचकांक |
  7. खाद्य और पोषण सुरक्षा : भारत में खाद्य उत्पादन और उपभोग की प्रवृति, खाद्य सुरक्षा की समस्याएँ, भंडारण की समस्याएँ और मुद्दे, उपलब्धि, वितरण, आयात और पी.डी. एस., आई. सी. डी. एस. और मध्यान भोजन आदि |
  8. खाद्य और पोशणात्मक सुरक्षा संबंधी सरकारी नीतियाँ |
  9. योजना की रणनीति : भारतीय पंचवर्षीय योजनाओं के उद्देश्य और रणनीति, राष्ट्रीय विकास परिषद् योजना आयोग के कार्य और भूमिका |
  10. विकेंद्रीकृत नियोजन : अभिप्राय और महत्त्व, पी. आर.आई.एस. और विकेंद्रीकृत नियोजन, भारत में उठाए गए मुख्य कदम|

 समूह (C) आर्थिक सुधारप्रकृति और भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

नवीन- आर्थिक सुधार- उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण सुधारों की प्रासंगिकता और आवश्यकता, अन्तराष्ट्रीय वित्तीय संस्थाए, आई.एम.एफ., डब्लू.टी.ओ. इनकी भूमिका और भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव |

  1. वित्तीय और बैंकिंग क्षेत्र सुधार, आर्थिक सुधार और ग्रामीण बैंकिंग का ग्रामीण साख पर प्रभाव, ग्रामीण साख के स्रोत और आर.आर.बी., अनोसुचित वाणिज्यक बैंक, ग्रामीण सहकारिता, वित्तीय समावेशन |
  2. भारतीय अर्थव्यवस्था का उदारीकरण: विभिन्न क्षेत्रकों पर इसके नकारात्मक और सकारत्मक प्रभाव, भारत में एफ .डी. आई. और एफ. आई. आई. के मुद्दे|
  3. कृषि क्षेत्र के सुधार और संवृद्धि पर इसका प्रभाव, कृषि में सहायिकी और सार्जनिक निवेश का मुद्दा सुधार और कृषक संकट |
  4. भारत में आद्योगिक विकास और आर्थिक सुधार : औद्योगिक विकास पर प्रभाव और एस .एम.ई. की समस्याएँ, सुधारों के बाद भी अवधी में भारत के औद्योगिककरण में सार्वजानिक उपक्रमों का निजीकरण

समूह (D) झारखण्ड की अर्थव्यवस्था : लक्ष्य मुद्देचुनौतियाँ और रणनीति

  1. आर्थिक वृद्धि और झारखण्ड की अर्थव्यवस्था की संरचना, क्षेत्रक-संरचना, अंतिम दशक में एम.डी.पी. और प्रति व्यक्ति एन.एस.डी.पी. की वृद्धि, झारखण्ड में कृषि और औद्योगिक विकास |
  2. झारखण्ड की जनांकिकीय लक्ष्य : जनसंख्या वृद्धि, लिंगानुपात, धनत्व, साक्षरता, श्रमबल की संरचना, ग्रामीण नगरीय संरचना आदि जनगणना 2001 और 2011 के सन्दर्भ में, अंतर-जिला परिवर्तन |
  3. गरीबी की स्थिति , बेरोजगारी, खाद्य सुरक्षा, कुपोषण, झारखण्ड में शिक्षा विकास के मुद्दे, मुख्य कार्यक्रम और योजनाएँ : गरीबी निवारण कार्यक्रम : पूरा,भारत निर्माण, मनरेगा, पी. एम. जी. एस. वाई., एम.जी. एस.वाई. आई. ए.वाई., एन. आर.एल.एम. आदि खाद्य सुरक्षा योजनाएँ |
  4. भूमि, वन और वातावरण संबंधी झारखण्ड में मुद्दे, भूमि सुधार और कृषक संबंध, जनजातीय-भूमि हस्तांतरण, लोगों का विकास जन्य विस्थापन : इसका प्रभाव और नीतिगत उपाय : वन संबंधी मुद्दों और एफ. आर.ए. का क्रियान्वयन, वातावरणीय अवनमन और इससे निपने की राज्य की नीति|
  5. झारखण्ड पंचवर्षीय योजनाएँ : 10 वीं और 11 वीं योजना की रणनीति और उपलब्धियाँ, टी.एस. पी. और एस. सी.एस. पी., और एम.सी. एस. पी., झारखण्ड में लोकावित्त की प्रवृति, झारखण्ड में औद्योगिक नीति और औद्योगिक विकास |

प्रश्न पत्र-VI

सामान्य विज्ञानवातावरण और तकनीक विकास

कुल अंक : 200                                                                                                                समय :   3 घंटे

सामान्य  विज्ञान, वातावरण और तकनीकि विकास के प्रश्न पत्र के 6 खंड होंगे| खंड-1, में 20 वस्तुनिष्ट प्रकार के प्रश्न होंगे, प्रत्येक 2 अंक (20x 2 =40 अंक) का होगा| इस खंड के लिए पाठ्यक्रम के पांच समूह, प्रत्येक से 4 प्रश्न लिए जाएंगे| प्रश्न पत्र के खंड – II, III,IV V और VI में प्रत्येक खंड में दो ऐच्छिक प्रश्न होंगे जो पाठ्यक्रम के समूह A,B,C,D और E से लिए जाएंगे, इनमें से उम्मीदवारों को प्रत्येक समूह से सिर्फ एक प्रश्न का उत्तर देना है, प्रत्येक प्रश्न 32 अंक का होगा| ऐच्छिक प्रश्नों का पारंपरिक रूप में,विवरणात्मक उत्तर जो 500-600 शब्दों से अधिक न हो, देना होगा| इस प्रकार कुल मिलाकर उम्मीदवारों को एक अनिवार्य वस्तुनिष्ट प्रश्न (40 अंक) और पांच ऐच्छिक प्रश्नों (5x 32=160) के विवरणात्मक उत्तर देने होंगे|

समूह (A) भौतिक विज्ञान

  1. मापन पद्धतियाँ: एमकेएस, सिजीएस और एसआई
  2. चाल,गति, गुरुत्व, द्रव्यमान, भार बल, की परिभाषा एंव प्रभाव, कार्य, शक्ति और उर्जा
  • सौर-प्रणाली, सूर्य और दुसरे ग्रहों के सापेक्ष पृथ्वी की स्तिथि, पृथ्वी और चन्द्रमा की और प्रणाली में गति, चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण|
  1. ध्वनि की प्रकृति की संकल्पना, तरंग लम्बाई और आवृति, अश्रव्य और प्रध्वनिक ध्वनि, प्रकृति में अश्रव्य ध्वनि के स्रोत, प्रध्वनिक ध्वनि की विशेषताएँ और कुछ उपयोग|

समूह (B) जीव विज्ञान

  1. जीवित विश्व, कोशिका-संरचना और इसके कार्य, सावयव विविधता
  2. जैव अनु- कार्बोहाइड्रेट, और वसा की संरचना और कार्य, विटामिन और इसकी कमी से उत्पन्न रोग, एन्जाईम्स, हार्मोन्स- पौधे हार्मोन्स और वृद्धि नियमन, जंतु-हार्मोन और उसका कार्य|
  • कोशिका जन्न – कोशिका चक्र, समसूत्री और अर्द्धसूत्री विभाजन|
  1. मेंडल के अनुवांशिकता का नियम-एकल संकरण और द्विसंकर कार्य, डिएनए संरचना और कार्य, डीएएन रिप्लीकेशन, प्रोटीन संश्लेषण, जीन नियमन, विभेदन के आण्विक आधार |
  2. पृथ्वी पर जीवन के क्रम विकासवाद के सिद्धांत, मानव के विकास सहित|

समूह (c) कृषि विज्ञान

  1. झारखण्ड के विभिन्न कृषि-जलवायु प्रदेश, वर्षा-जलवायु प्रदेश, वर्षा का प्रारूप और प्रत्येक प्रदेश में ज्ञात अजैविक संघात|
  2. वर्षा-परित कृषि, राज्य के पारम्परिक खाद्य और बगवती फसल, जलवायु परिवर्तन के आलोक में फसलों के विविधिकरण के साथ-साथ पोषण-सुरक्षा की आवश्यकता: वर्षा जल खेती और झारखण्ड के कृषि उन्नति में इसकी भूमिका : मत्स्य कृषि|
  • झारखण्ड में मृदा उर्वरता की स्तिथि, मृदा के स्वास्थ्य सुधार में केंचुआ कंपोष्ट और जानवरों के मल-मूत्र से प्राप्त खाद का उपयोग, नाइट्रोजन स्थिरकारी बैक्टीरिया : उनका उपयोग और कार्बनिक खेती की संकल्पना|
  1. कृषि वानिकी की संकल्पना, बंजर भूमि और उसके सुधार के उपाय
  2. राज्य कि किसानों के लिए लाभदायी सरकारी योजनाएँ|

 समूह (D) वातावरणीय विज्ञान

पारिस्थितिक तंत्र की संकल्पना, संरचना और पारिस्थितिक तंत्र के कार्य, प्राकृतिक संसाधन – नव्यकरणीय और अन्वयकरणीय संसधान, वातावरण का संरक्षण – स्वस्थाने और बाह्यस्थाने संरक्षण, प्रदूषण-वायु, जल, ध्वनि और मिट्टी, ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन, जैव विविधता की संकल्पना, तप्त स्थल, जैव विविधता के खतरे, वैश्विक वातावरणीय मुद्दे: जलवायु परिवर्तन, वैश्विक तापन, ओजोन परत का अवक्षय, अम्लवर्षा, मरूस्थलीयकरण, वातावरणीय कानून-वातावरण (सुरक्षा) एक्ट, वायु (प्रदूषण नियंत्रण और रोकथाम) एक्ट, जल (प्रदूषण नियंत्रण और रोकथाम) एक्ट, वन संरक्षण एक्ट|

समूह (E) विज्ञान और तकनीकि विकास

विज्ञान और तकनीकि की राष्ट्रीय नीति, देश की उर्जा मांग, पारंपरिक और गैर पारंपरिक उर्जा स्रोत, परमाणु उर्जा : इसके गुण और दोष : परमाणु नीति किए प्रवृतियाँ, एनपीटी और सीटीवीटी, अन्तरिक्ष तकनीकि-भारतीय अन्तरिक्ष कार्यक्रम, उपग्रहों का विभिन्न उद्देश्यों हेतु अनुप्रयोग : भारतीय मिसाइल कार्यक्रम : सुदूर संवेदन : जीआईएस और इसका मौसम की भविष्यवाणी, आपदा चेतवनी, जल, मिट्टी और खनिज संसाधनों आदि के क्षेत्र में अनुप्रयोग: जैव तकनीक का कृषि, जन्तुओ के नस्ल सुधार, दवा, खाद्य तकनीकि और वातावरणीय संरक्षण में उपयोग, जैव तकनीकि हस्तक्षेपों के संभावित विपरीत प्रभाव, सूचना तकनीकि : कम्प्यूटर और आंकड़ा प्रसंस्करण में इसका अनुप्रयोग, आंकड़ा प्रोग्राम, साईबर अपराध और साईबर कानून|

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति : मलेरिया, कुष्ट, यक्षमा, कर्क, एड्स, अंधापन आदि के नियन्त्रण एवं रोकथाम के लिए राष्टीय कार्यक्रम|

https://www.jpsc.gov.in/